TOR BROWSER क्या है केसे काम करता हे

आज कल के ज़माने में सभी लोग internet का use करते है. शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जो आजकल  internet न use करता हो. internet browse करना तो ठीक है लेकिन क्या अपने कभी सोचा है क्या आप internet पर safe है. क्या आप जो भी internet पर browse करते है वो private है. ये सभी बाते आप internet चलते समय कभी कभी आपके दिमाग में जरूर आता होगा. अगर आप ऐसा सोचते तो आपको चिंता करने की कोई जरुरत नहीं है. आज मैं आपको tor browser के बारे में बताता हूँ. शायद आपको इसके बारे में पता हो लेकिन अभी भी बहुत से ऐसे लोग है जो tor browser के बारे में नहीं जानते.

Tor browser का इस्तेमाल ज्यादातर hackers करते है करते है. ( हैकिंग क्या  है )Hackers इसका इस्तेमाल अपनी identity छुपाने के लिए करते है. अगर हम tor browser की बात कर रहे है तो हमे VPN के बारे में नहीं भूलना चाहिए. vpn के बारे में भी बहुत ही कम लोग जानते होंगे. vpn को हम virtual private network  जानते है. Vpn का इस्तेमाल हम अपनी IP को change करने के लिए करते है. जबकि tor browser का इस्तेमाल हम अपनी IP को hide(छुपाने) करने के लिए करते है. तो चलिए विस्तार से जानते है की tor browser क्या है. इसका इस्तेमाल क्यों किया जाता है,इसे download कैसे किया जाता है.tor browser और vpn में क्या अंतर है.

TOR BROWSER क्या है ( what is Tor browser in hindi )

Tor browser का पूरा नाम the onion router है. इसका इस्तेमाल हम अपनी identity छुपाने करते है.ये एक ऐसा browser है जिसका इस्तेमाल करके हम कोई भी illegel activity आसानी से कर सकते है. और किसी को पता भी नहीं लगेगा की ये identity किसकी है. ये आपके ip (internet protocol) को पूरी तरह से hide कर देता है. जिससे इसका पता लगा पाना बहुत ही मुश्किल हो जाता है.

जैसा की मैंने आपको  बताया इसे the onion router कहते है. जिस प्रकार एक onion में काफी सारी layers बानी होती है वैसे ही tor browser में भी IP की layers होती है. जिस से हमारी identity छुपाई जाती है. यह तक की america की बड़ी बड़ी orginations है. वो भी tor browser की identity को trace नहीं कर पाती.

TOR BROWSER KYA HAI

tor browser की maximum funding  US Goverment ने की है. इसका इस्तेमाल ज्यादातर hackers करते है या फिर वो लोग जिन्होंने किसी ऐसे काम को अंजाम देना होता है जिसमे वो कोई illegal activity करनी हो ऐसे में कोई उनकी identity नहीं नहीं पता कर पायेगा. चलिये एक example से समझ लेते है टोर browser क्या है. मान लीजिये, अपने कोई ऐसी website serve कर रहे है हो की band है या फिर जिसका इस्तेमाल करना illegal है. तो जैसे ही आप उस website  को ओ open करेंगे तो  आपका ip address trace हो जायेगा और पता लग  अपने ये वेबसाइट को browse किया है और आप पर जुरमाना या फिर सख्त करवाई हो सकती है. लेकिन अगर आप इसी वेबसाइट को टोर broweser से browse करते है तो वो आपकी IP address hide कर देगा और कोई भी आपकी identity को नहीं पता कर पायेगा.

TOR BROWSER का इतिहास

Tor browser को 1990 में Paul Syverson और कंप्यूटर वैज्ञानिक Michael G. Reed और  David Goldschlag द्वारा बनाया गया था. टोर का अल्फा संस्करण, साइवरसन और कंप्यूटर वैज्ञानिकों रोजर डिंगलेडिन और निक मैथ्यूसन द्वारा विकसित किया गया और फिर 20 सितंबर 2002 को लॉन्च किया गया.1997 में डीएआरपीए द्वारा tor की रूटिंग की गई थी. launch होने के बाद इसे the onion browser का नाम दिया गया.

TOR BROWSER का इस्तेमाल कैसे करते है

Tor browser का इस्तेमाल करने कोई rocket science नही है. tor browser को use करने के लिए आप इसे download कर के install कर ले और install करने के बाद आप इसे open करे. आपका tor browser रेडी है उसे के लिए लेकिन में यह पर आप को सावधान करना चाहूंगा कि आप इसका इस्तेमाल तभी करे जब आपको internet के बारे में अच्छी जानकारी हो. वरना हो सकता है कि आप को यहाँ पर कोई नुकसान पहुँचायें.

TOR BROWSER का इस्तेमाल क्यों किया जाता है

Tor browser का इस्तेमाल अपनी ip address को छुपाने के लिए किया जाता है. इससे न केवल आप अपनी ip address hide कर सकते है बल्कि इसका इस्तेमाल करके आप आप अपनी details या फिर जो भी आप browse कर रहे है उसे hack होने से बचा सकते है. टोर browser का इस्तेमाल करके आप वो सभी websites चला सकते है. जो की block है या फिर जिस website को सरकार ने चलने की अनुमति नहीं दी हुई है.

Tor browser हमारी गोपनीयता बनाए रखता है और हमारे किसी भी तरह के data को चोरी होने से बचाता है. Tor browser का इस्तेमाल ज्यादातर hackers करते है. क्यों की वो अपनी गोपनीयता छुपाना चाहते है ताकि वो कुछ ऐसे illegal चीज़ो का इस्तेमाल कर सके जो कि  goverment द्वारा बंद किया गया है. आजकल आम लोग भी टोर browser का काफी इस्तेमाल कर रहे है. वो भी कुछ इसका इस्तेमाल कुछ ऐसी websites का इस्तेमाल करने के लिए कर रहे है जिन्हे सरकार द्वारा चलने की अनुमति नहीं दी गयी है.

Tor browser काफी सारी hidden agencies की निगरानी रहती है. वो हर समय इस चीज़ के पीछे लगे रहते है की कही कोई इसका गलत इस्तेमाल तो नहीं कर रहा है. हलाकि टोर browser कई हद तक use करना safe है. लेकिन फिर भी इसका use तब तक मत करे जब तक आपको इसके बारे में पूरी जानकारी न हो.

केसे TOR BROWSER  download करे

Torbrowser download करना  मुश्किल काम नहीं है इसे डाउनलोड करना बहुत ही आसान है आप चाहे तो google पे simple tor browser डाउनलोड लिख के भी इसे डाउनलोड कर सकते है लेकिन मई आपको इसे सीधे download करने का तरीका बताउगा जिस पर क्लिक करके डायरेक्ट tor browser को बड़े ही आसानी से डाउनलोड कर सकते है. अपने simply इस लिंक पर click करना है.

[wps_button style=”default” url=”https://www.torproject.org/download/download-easy.html.en” target=”blank” background=”#dd3333″ color=”#FFFFFF” size=”13″ icon=”windows” wide=”no” position=”center” radius=”0″ text_shadow=”0px 0px 0px #ffffff” rel=”nofollow” title=”Default Button” id=”default-button”]DOWNLOAD[/wps_button]

जैसे ही आप लिंक पे क्लिक करेंगे आपके सामने एक website open होगी. website के page पे ऊपर की तरफ दायी और आपको download latest version option मिलेगा. जैसे ही आप उस option पर click करेंगे कुछ समय बाद आपका टोर browser download होना शुरू हो जायेगा. ये टोर browser 54.79 mb का है. डाउनलोड होने के बाद आप simply इसे अपने computer में install करे और इसका आनंद ले.

TOR BROWSER आम लोगो के लिए कियूँ secure नहीं है

Tor browser वैसे को एक simple browser है जिस पर आप internet पर सभी websites को access कर सकते है. पर इस browser की ये ख़ासियत है कि यह आप iddentity को छुपा कर रखता है. जिसे की अगर आप india के किसी state से internet को अपने computer पर use कर रहे है तो tor borowser उस पर layer चढ़ा देगा और वह आप को locations को कहि ओर jump करवा देगा ताकि कोई अगर आप का real location track कर रहा है तो वह नही जान पायेगा की आप कहाँ है. इसका प्रयोग hackers अपनी real identity को छुपाने के लिए करते है ताकि उन को कोई भी व्यक्ति internet पर पकड़ न पाए.

अगर आप को internet की अछि तरह से जानकारी नही है तो आप को टोर browser का इस्तेमाल नही करना चाहिए. या यूं कहें कि यह आम लोगो के लिए नही है. आप जब chrome browser में जब internet को चलाते है तो chrome browser आप को सिर्फ safe websites को ही visit करने देता है और यह sapmmy और vrius से आप को protaction देता है. पर टोर browser में ऐसा नही है यहा पर आप deep web में आसानी से enter कर सकते है जहाँ पर काफी spammy websites होती है और hackers होते है जो आप के computer or data को hack कर के आप को नुकसान पहुँचा सकते है. और आप को कभी भी tor browser से internet banking या किसी भी तरह की financial transfers नही करना चाहिए. यहा पर बहुत अधिक chances है कि आप की personal information hack हो सकती है.

Vpn क्या है.

VPN एक pivate network होता है जो आप को कहि से किसी भी website को secure तरीके से access करने की अनुमति देता है. vpn पूरा नाम virtual private network है. इस मे आप को company के द्वारा एक private IP address दिया जाता है. और user id और password भी दिया जाता है ताकि आप उनके vpn को use कर पाए.

अक्सर vpn का use बड़ी बड़ी websites और companies, goverment websites इत्यादि करती है. क्यो की इस पर काफी important ओर senstive data मौजूद होती है जिसे hackers चुरा सकते है उन लोगो से protact करने के लिए ही vpn का उपयोग किया जाता है. vpn के द्वारा data को send करने पर किसी को पता नही चलता कि data कहा और किसे भेजा जा रहा है. यह बहुत secure network माना जाता है.

TOR BROWSER और VPN में क्या अंतर है

Torbrowser और  vpn में कुछ बहुत बड़ा फर्क नहीं है. हम tor browser का इस्तेमाल apne identity छुपाने के लिए करते है. यह हमारी ip address को hide कर देता है और vpn (virtual private network) हमारी ip address को ही बदल देता है. अगर हम vpn का इस्तेमाल करते है, तो वो हमारी main IP को  किसी और IP से change कर देता है. vpn का काम हमारे computer और network के बीच secure tunnel बनता है.

जो हमे internet पर कोई भी चीज़ सुरक्षित रूप से इस्तेमाल करने में मदद करते है.यह हमारे data को encrypt करता है जिस से हम safely कोई भी चीज़ browse  कर सकते है. Tor browser को हम dark web के नाम से भी जानते है.  अनुमति देता है की हम किसी भी website को या ऐसी कुछ ऐसी unwanted  करना सही नहीं है उसे भी safely इस्तेमाल करने में मदद करता है. Tor browser और vpn दोनों ही लगभग एक ही तरह के काम को अंजाम देते है. किंतु इनके काम करने का तरीका और methods अलग अलग है जो दूसरे से भिन्न बनाते है.

Conclusion

तो दोस्तों आपने आज इस पोस्ट के माध्यम से जाना कि टोर browser क्या है, टोर browser का use क्यो किया जाता है, टोर browser आम लोगो के लिए क्यो safe नही है. tor browser का इतिहास क्या है, vpn क्या है, tor browser और vpn में क्या अंतर है.

दोस्तो टोर browser वैसे तो आप को secure और दूसरे लोगो से छुपा कर रखता है पर यह आप को spammy websites पर जाने से नही रोकता है. जिस कारण अगर आप गलती से वह पर चले जाते है तो हो सकता है कि कोई hacker कप का data चुरा के ओर आप को नुकसान पहुँचाये और आपका data को वापिस करने के बदले आप से पैसो की demand करे. और आप को मजबूरी में देना पड़े.

तो दोस्तो आप को हमारी यह जानकारी कैसी लगी हमे जरूर बताएं. और अगर इस से सम्बंधित आप के मन मे कोई question हो तो आप हम से बेफिक्र होकर पूछ सकते है हमे जबाब देने में अत्यंत खुशी होगी.

नमस्कार दोस्तो मेरा नाम vivek dobriyal है. और में एक blogger हु। मैने engineering की है। और अब अपने blogs के ज़रिए infromation को सभी के साथ शेयर करता हु। मेरे blogs हमेशा research based होते है और मै अपने visitors को हमेशा सही जानकारी ही देने की कोसिस करता हूं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here