सॉफ्टवेयर इंजीनियर ( Software Engineer ) कैसे बने

आज के इस Post में जानेंगे की Software Engineer कैसे बने। आज दुनिया के सारे काम मै कंप्यूटर की जरुरत पड़ती है. कंप्यूटर हमारे जीवन का एक बेसिक पार्ट बन चूका है न की सिर्फ प्रोफेशनल यूज़ बलकि मनोरंजन जगत मै भी इसका यूज़ बहुत होता है. और अगर Computer चलता है तो वो सिर्फ उस्के अंदर Install किये गए विभन्न Software की मदद से. जो की बड़ी या फिर छोटी कम्पनी और उससे जुड़े इंजीनियर के द्वारा तैयार किये गए है.

इसमें कोई सक नहीं की आज की Date में सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग की मांग आसमान छू रही है. बढती मांग ने Computer Science को सबकी पसदीदा ब्रांच बना दी है. पर ये भी सच है की जानकारी की कमी की वजह से कही  सारे बच्चे सॉफ्टवेयर   इंजीनियर या फिर ऐसी कोई ब्रांच से जुडी सफलता कैसे हासिल करे ये पता नहीं कर पाते है. क्युकी खास करके हमारे देश मै जानकारी ज्यादा नहीं होती है और एक अच्छे जानकार की कमी होती है. आज हमारे देश के कही छात्रों को कंप्यूटर साइंस मै आगे बढ़ने की इछा है. जो की पूरी होसकती है और वे एक अचे सॉफ्टवेयर  इंजीनियर बन सकते है. पर उसके लिए आपको उसकी खास जानकारी होनी चाहिए.

आज हम आपको बताएँगे की आप सॉफ्टवरे इंजीनियर कैसे बन सकते है. इसमें कही सारे स्टेज होते है जोकि आपको फॉलो करना पड़ता है तभी आप एक सफल सॉफ्टवरे इंजीनियर  बन सकते है.

SOFTWARE ENGINEER केसे बने

सबसे पहले आपको थोड़ी बहुत जानकारी होनी चाहिए इस फील्ड की. जैसे की software engineering आखिर होती क्या है. तो software engineering खास करके कंप्यूटर मै यूज़ होने वाले सॉफ्टवेयर विकसित करने पर ध्यान देती है. एक सीधा सदा उदहारण देता हु आपके कंप्यूटर मै कैलकुलेटर होता है .वो एक software ही है यही जिसमे आप आसानी से गणन प्रक्रिया कर सकते है पर ये एक छोटा सा नमूना है. बहुत सारे विशाल software मार्किट में अवेलेबल है जो की वर्षो की महेनत के बाद तैयार होते है. ऊसके बाद हम दखे तो कही सारे सॉफ्टवेयर है जोकि हम अपनी हररोज की प्रक्रिया मै कंप्यूटर की मदद से यूज़ करते है जैसे की  माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस,माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल,पावर पॉइंट प्रेजेंटेशन इत्यादि.

Computer Engineer कैसे बने

ये सभी software के Example है. जो की डेवेलोप किये गए है ज्यादा कम्पनी के  द्वारा जैसे की Microsoft, Google, वगैरे.

अगर आप भी ऐसी कम्पनी मै काम कर के या फिर खुदके दम  पर कुछ करना चाहते है सॉफ्टवेयर डेवलपिंग की दुनिया मै तो आपको बहोत सारे ज्ञान और लॉजिक की जरूररत पड़ेगी.और वो कैसे हासिल  कर सकते है उस्के बारे मै में आपको बताऊंगा तो अब आपको अंदाज़ा तो हो ही गया होगा की सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग आखिर है क्या. एक सफल सॉफ्टवरे इंजीनियर बनना आसान तो बिलकुल भी नहीं पर लगन और महेनत के साथ मुश्किल भी नहीं है. अब मै आपको सारे स्टेज से वाकिफ करता हु जो की आपको एक सफल सॉफ्टवरे इंजीनियर बनाने के लिए जरुरी है.

#1)अच्छे Collage में जॉइन करें।

महाविद्यालय मै आपको बेचलर की डिग्री मिलेगी. जैसे की हम सब जानते है की ये फेज हमारी लाइफ मै 12th क बाद आता है.

कोई भी फील्ड मै प्रैक्टिकल ज्ञान के सा-साथ थेओरिटिकल ज्ञान बहुत जरुरी होता है ये हम सब जानते है. और उसके लिये सबसे बेस्ट महाविद्यालय ही है. जिसमे आपको सारी बाते  सिखाई जाएँगी जो की जरुरी है एक अच्छा सॉफ्टवेर इंजीनियर बनाने क लिए.और उसके साथ साथ आज के दिन मै शायद हर एक सॉफ्टवरे इंजीनियर की पोस्ट क लिए बेचलर की डिग्री जरुरी है. इसीलिए आपके कॅरिअर की सुरवात बेचलर की डिग्री  से ही होनी चाहिए.

उसके लिए आपको एक अछि महाविद्यालय मै दाखला लेना जरुरी है. जो की जानी-मानी हो थेओरिटिकल और प्रैक्टिकल क्नॉलेज के लिए.

एक हमेसा से रहना वाला कन्फूशन ये भी है की कोनसी डिग्री करे कंप्यूटर से जुडी.क्युकी  काफी सारी डिग्री मार्किट मै अवेलेबल है जो की आपको Computer Science से रूबरू करवाती है.पर आपके इंटरेस्ट से जुडी सिर्फ कुछ ही ब्रांच होती है.उसमे ही आपको जाना चाहिए.तभी आप उसम महारथ हासिल कर सकते है.ये भी है की इस स्टेज पे आपको नहीं मालूम होता है की आप किस्मे दाखिला ले .इस का जवाब आप उन् डिग्रीओ के बारे मै अच्छे से जानकारी प्राप्त करके निकाल सकते है. जैसे की

  1. कंप्यूटर इंजीनियरिंग (computer Engineer)
  2. बेचलर ऑफ़ कंप्यूटर साइंस (Graduation of Computer Science)
  3. बेचलर ऑफ़ इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी (Graduation of Information technology)

ये सारी डिग्री मै दाखला लेने क लिए अलग अलग एग्जाम देनी पड़ती है. उस्के साथ साथ इंडिया मै अलग अलग राज्य मै अलग अलग Method का यूज़ होता है. ये सभी डिग्री अच्छी है आप किसी मे भी दाखला ले सकते है.

#2)कंप्यूटर प्रोगरामिंग भाषा सीखे.

कंप्यूटर की अपनी एक भासा होती है. जो की वो समज पाते है. हाला की आज की डेट मै ऐसी कही लेंग्वेज है जो market में फेमस है. इन सबका Basic Knowledge जरुरी है. और उस्के बाद किसी एक या दो लेंग्वेज मै मासटरी भी जरुरी है. सॉफ्टवरे डेवलपिंग के लिए सबसे जरुरी  होता है उनसे जुडी भाषा ये सीखनी. इनके बिना आप कंप्यूटर कोडिंग या प्रोगरामिंग नहीं कर सकते.

आज की तारीख मै कही सारी ऐसी भासा है मार्किट मै है जो की अछि भी है और जानीमानी भी. इनका ज्ञान होना बहोत ही आवश्यक है अच्छा सॉफ्टवरे इंजीनियर बनने के लिए. ये सारी भासा आपको डिग्री के दौरान सिखाई जाएगी. कुछ जनि मानी भासा ये निचे लिखी है.

  • c लैंग्वेज ( c langage)
  • c + + लैंग्वेज (c++ language)
  • java लैंग्वेज (java language)
  • c शार्प लैंग्वेज (c sharp language)

ऐसी कही भासा ये मार्किट मै है जोकि काफी सारे  सॉफ्टवेयर बनाने के लिए जानीमानी है.इसके साथ साथ नयी भासा ये आती है जिनकी जानकारी अपडेट करना जरुरी है.

#3)प्रोगरामिंग लॉजिक को मजबूत बनाये.

सॉफ्टवेयर इंजीनियर का प्रोगरामिंग लॉजिक बहोत मजबूत होता है. सारी बाते सोच पाना बहोत जरुरी होता है. ये सारी बाते आपको डिग्री दौरान शायद न सिखने मिले पर आप इसे बाहर से सिख सकते है. प्रोगरामिंग लॉजिक एक सोचने की क्षमता को दर्शाता है. जो की आप पे भी कभी निर्भर करता है.

#4)खुद Software बनाने की कोशिस करे

जब तक आप खुद से कुछ नहीं करोगे तब तक आप नहीं सिख पाएंगे. इतने सारे थेओरिटिकल चीजों को समजने क बाद जरुरी होता है की आप इनको प्रैक्टिकल यानि रियल वप्रास से जोड़े. ये प्रैक्टिस  आप कॉलेज मै कर सकते है या फिर कही बाहर ट्यूशन से या खुद Laptop मै भी कर सकते है. आप कही सारे सेक्टर पसंद कर सकते है सॉफ्टवरे डेवलपिंग क लिए जिसमे आपको सबसे ज्यादा इंट्रेस्ट हो उसमे आपको आगे बढ़ाना चाहिए.जैसेकि कुछ उदहारण क तोर पे गेम है,डिजाइनिंग सॉफ्टवरे है. सॉफ्टवरे डेवलपिंग में प्रैक्टिस बहोत मायने रखती है जो की आप कर सकते है.

आप अपने सहर मै इसके लिए क्या फैसिलिटीज है उसका पता करे और फिर कही पे इसकी प्रैक्टिस करनी चाहिए. किस सीनियर की मदद ले सकते है आप.

#5)अच्छ कम्पनी मै इंटर्नशिप ले

इंटर्नशिप यांनी किसी कम्पनी मै 30 से 6 months की ट्रैंनिंग, जो की बहोत जरूरी होती है. असल मै ये आपको  रियल सिचुएशन से वाकिफ कराएगी. की आज के दौर मै क्या चल रहा है. कोन से सॉफ्टवरे मार्किट मै है कोनसे चल रहे. कोनसे सॉफ्टवरे नए लौंच होने वाले है.  उसके साथ साथ आप रिअलिटी में कैसे सॉफ्टवेयर बनाते है उससे वाकिफ होंगे. आपके वर्क प्लेस से भी आप रूबरू होंगे.सारी फैसिलिटी के बारे मै आपको जानने  को मिलेगा. मतलब की इंटर्नशिप बहोत जरुरी होती है .ये एक्सपीरिएंस बताता है की जब आप किसी कम्पनी को ज्वाइन करोगे तो कैसे काम कर सकोगे. काफी सारे हार्डवरे जो की आप कॉलेज में नहीं देख पाते वो वह पे  देख पाएंगे. उसके साथ साथ आपको एक सर्टीफिकेटे भी मिलेगा इंटर्नशिप का जोकि आप इंटरव्यू मै प्रेजेंट कर सकते है. इंटरव्यू लेने वाला आपसे आपकी इंटर्नशिप से जुड़े काफी सवाल पूछ सकता है.और सायद आपका पूरा इंटरव्यू उसके ऊपर जा सकता है. इसीलिए हर एक चीज को बारीकी से समजे. अछि कम्पनी मै इंटर्नशिप के लिए आप सबसे पहले आप अपने सहर और आसपास के सहर मै कंप्यूटर सेक्टर से जुडी कम्पनी यो की लिस्ट बनाये फिर उन सब मै एक अप्लीकेशन दे की आप इंटर्नशिप करना चाहते है उनकी कम्पनी मै. फिर उसमे से कितनी कम्पनी आपको रेस्पोंस करती है उस्के ऊपर आप अपने इंट्रेस्ट के अनुसार कोई बेस्ट कम्पनी Select कर लीजीये.

कम्पनी मै इंटर्नशिप करते वख्त ध्यान देना बहोत जरुरी है वरना उसका कोई फायदा नहीं मिलेगा.सिर्फ सर्टिफिकट के लिए इंटर्नशिप मत करना उसका कोई फायदा आगे चलके नहीं होने वाला.क्युकी जैसेकि हम ने बताया इससे जुड़े कही सवाल इंटरव्यू में आएंगे अगर आपने इंटर्नशिप के दौरान ध्यान नहीं दिया तो आप उन् सवालों के जवाब नहीं दे पाओगे.

#6)एक अच्छी कम्पनी मै सेलेक्ट होना

आपको अपनी एबिलिटीज को साबित करने के लिए हमेशा एक प्लेटफार्म की जरुरत होती है.जो की आपको एक अछि कम्पनी प्रोवाइड करावा सकती है. पर उसके लिए आपको वो सारी प्रोसेस फॉलो करनी पड़ती है. जो की प्लेस्मेंट के लिए जरुरी होती है. सभी कम्पनी मै प्लेस्मेंट प्रोसेस सेम होती है.सबसे पहले आपकी लिखित मै एक ऑप्शन वाली टेस्ट होती है उसके बाद आपको इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है अगर आप एग्जाम मै पास होते है तो. Interview के  दौरान आपको थेओरिटिकल चीजे पूसी जाएगी उसके साथ साथ प्रैक्टिकल चीजे भी पूसी जाएगी जैसे की कंप्यूटर भासा का ज्ञान उसको यूज़  करने की क्षमता. इसके लिए आपको पहले से तैयार रहना पड़ेगा. हालाकी ऎसा जरुरी नहीं है की इंटरव्यू मै सिर्फ टेक्निकल यानि आपकी बुक्स के ही सवाल होंगे बलकि काफी सारे ऐसे सवाल भी होंगे जो की आपकी बुक्स से जुड़े नहीं होते. उनके लिए भी आपको तैयार  रहना पड़ेगा. अछि कम्पनी हमेशा  ही एक अच्छा कैंपस यानि अछि कॉलेज पसंद करति है. इसीलिए आपको एक ऐसी कॉलेज में दाखिला लेना जरुरी है जो की प्रसिद्ध  हो अपने काम और नाम से. उसके लिए आपको 11 और 12 में अचे Marks की जरुरत होती हे. इसीलिए आपको उसमे अचे मार्क्स प्राप्त करने चाहिए.  आज की डेट मै कही सारी जायंट कम्पनी मार्किट मै है. आप उनमे से जिसमे भी सिलेक्ट हो सकते है वो बेस्ट है आपके लिए. उदहारण क तोर पे TCS  WIPRO ये सब कम्पनी बेस्ट है.

अगर आप कैंपस इंटरव्यू मै सेलेक्ट नहीं होते है तो आपको बहार जाना पड़ेगा ऑफ कैंपस. वहा पे  डेफिनेटली ज्यादा कम्पटीशन होगा और आपको ज्यादा महेनत करनी पड़ेगी .जैसेकि हम सब जानते है आईटी हब साउथ को माना जाता है तो आप वह पे भी अप्लाय  कर सकते है. उस्के लिए आप आज की डेट मै  नौकरी से जुड़े कई वेबसाइट अवेलेबल है जैसे की Naukari.com,Linkind जैसी वेबसाइट पे प्रोफाइल बना सकते है. उनमे से आपको रेगुलर इन्फॉर्म किया जायेगा.

#7)अपना करिअर गोल सेट करना

Career गोल यानी आपको आगे क्या करना है.इस दुनिया मै आगे बढ़ने के लिए बहोत सारे रस्ते है पर आपको कोई एक सेलेक्ट करना पड़ेगा. अपनी रूचि के अनुसार आपको अपना करिअर गोल सेलेक्ट करना चाहिए. बार आप अछि कम्पनी मै सेलेक्ट होगये उसके बाद जरुरी हे की अपनी रियल क्षमता औ के  बारे मै जाने की आप किस्मे आगे बढ़ सकते है. जैसे की कोनसे टाइप का software बनाने मै आपको इंट्रेस्ट है. किस्मे आप माहिर हो. एक बार आपको ये पता चल जाये बाद मै आप अपनी एबिलिटीज प्रूव कर सके ऐसे प्लेटफार्म की हेल्प ले सकते. जैसे की अगर आप गेमिंग से जुड़े सॉफ्टवरे मै माहिर बन सकते है तो आपको ऐसी कम्पनी ज्वाइन करनी चाहिए जो ऐसे सॉफ्टवरे डेवलप कराती हो.

उसके साथ साथ आप अपना कोई सॉफ्टवेयर बनाने की शुरुआत कर सकते है इस Stage पे जो की आपके करियर की एक शुरुआत होगी. आप के बहोत बड़े Software Engineer से सॉफ्टवरे डेवलपर बन सकते है. उसके लिए आपको वो सारी बातो का खायाल रखना पड़ेगा जो की हमने आपको ऊपर बताई हे.इस हर एक स्टेज को बारि की से समझने के  बाद आप एक अचे सॉफ्टवेयर डेवेलपर बन सकते है. तो ये एक पूरी जर्नी है सॉफ्टवरे इंजीनियर बनने की. उसमे कही सारे प्रोब्लेम्स कही सारे स्टेज पे जरूर आएंगे. आपको सबको सॉल्व तो करना ही पड़ेगा. जरुरी नहीं है की आप हर चीज बड़ी आसानी से समज जाये.कुछ विषय या लेंग्वेज आप न भी समज पाए तो कोई बात नहीं. उस्के आलावा भी बहोत कुछ है ये समज के आगे बढ़ाना चाहिए. अपने Career की स्टार्टिंग मै पैसो क बारे मै मत सोचना अगर सेलरी कम है तो कोई बात नहीं पर आपको वहा पे कुछ सीखने की एक अछि ओपर्चुनिटी जरूर होनी चाहिए.

पैसे बाद मे भी कमाए जा सकते है पर इस स्टेज पे सीखना बहोत जरुरी है.

नयी लेंग्वेज जो की समय समय पे Market में आती ही है उसको आपको सीखना पड़ेगा. क्युकी पुरानी लेंग्वेज हमेशा उपयोग में नहीं रहती. इस लिए आपको हमेशा  ही मार्किट किश दिशा मे जा रहा है उसपे फोकस करना पड़ेगा.

इस तरह से आप एक successful Software Engineer बन सकते है और इस क्षेत्र में अच्छा रुपया भी कमा सकते है.

आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे लाइक करें, अपने दोस्तों के बीच Share करें और आपका कोई भी प्रश्न हो तो नीचे Comment में जरूर पुछें.

नमस्कार दोस्तो मेरा नाम vivek dobriyal है. और में एक blogger हु। मैने engineering की है। और अब अपने blogs के ज़रिए infromation को सभी के साथ शेयर करता हु। मेरे blogs हमेशा research based होते है और मै अपने visitors को हमेशा सही जानकारी ही देने की कोसिस करता हूं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here