Cloud computing क्या होता है

दोस्तों आज हम इस post में जानेंगे कई cloud computing क्या होता है. cloud computing का उपयोग क्यो और किस लिए किया जाता है. cloud computing के कितने प्रकार होते है. cloud computing की history क्या है. और cloud computing के फायदे और नुकसान क्या है.

दोस्तों cloud computing एक बहुत ही ज्यादा powerful computer है. जिसे हम अपनी जरूरत के लिए providers से ख़रीद सकते है. इनका उपयोग मुख्य तौर से बड़ी companies ही करती है.पर आज कल लगभग सभी लोग cloud computing का उपयोग कर रहे है. आप यह पर games को बना कर run कर run कर सकते है. cloud computing मे आप को सभी चीज़े मिलती है जो आप के physical computer में होती है जैसे processor, ram, hard disk drive, graphic card इत्यादि पर आप इसको देख सकते है पर छू नही सकते है, क्यो की यह providers के पास मौजूद होती है पर आप इसकी power को महसूस कर सकते है. तो चलिए दोस्तों अब विस्तार से जानते है कि cloud computing क्या होती है. और इसका इस्तेमाल क्यों किया जाता है.

Cloud computing क्या है.

Cloud computing एक ऐसी technoloy है जिसके द्वारा हम एक computer को कहीं दूर पर बैठे हैं internet के माध्यम से control कर सकते हैं. cloud computing में हमें physical computer देखने को नहीं मिलता है पर यहां सब कुछ virtually तरीके से बनाया जाता है. और इसे operate किया जाता है.

cloud computer में आप को ram, processor, hard disk, graphic card और network card सभी चीज़े मिलती है. पर इनको आप सिर्फ देख सकते है. आप इनको physically छू नही पाएंगे. पर यहाँ पर आप को prossing power किसी personal computer से भी अच्छा होता है.

cloud computer आज के वक़्त में बहुत जरूरी और famous चीज़ है. हम जो भी चीज़े internet पर use करते है वो सभी चीज़े किसी न किसी cloud computer का हिस्सा होता है. आप जितनी internet पर चीज़े देखते हैं चाहे वह online data को store का हो या फिर किसी website को 24 hour online रखना हो या data को store करना हो चाहे कुछ भी हो सभी चीजें cloud computing power का ही उपयोग करती हैं. cloud computing एक ऐसी computing service है जो massive scale और IT related capabilities को service के रूप ने प्रदान किया जाता है.

अगर आप कोई website या कोई aplication जैसे की photo editing software कोई बनाते हैं. तो उसको process करने के लिए आपको computer की जरूरत पड़ती है. तो इस समय पर  आप cloud based computer का उपयोग करते हैं. यह computers बहुत ही fast होते हैं और बहुत ही relaible होते हैं. cloud computer का उपयोग users अपनी आवश्यकता के अनुसार करते हैं. और इसकी service बदले वह users cloud service comapnies को हर महीने कुछ पैसे भी देते हैं. इसके लिए उनको किसी भी प्रकार का खुद का infrastrucature बनाने की जरूरत नहीं पड़ती. users को सभी चीज़े बानी बनाई मिल जाती है.

Virtualbox क्या है.

Cloud computer को क्यो और किस लिए use किया जाता है.

Clolud computer का उपयोग हम अपने websites या किसी web application को oniline platform पर चलाने के लिए करते है. cloud computers का उपयोग हम online storage के रूप में भी कर सकते है. अगर आप कोई small company या फिर कोई छोटा web application run कर रहे है तो उसके लिए अगर आप अपना खुद का cloud computer बनाने जायेंगे तो आप को यह बहुत ही costly पड़ेगा और आप cloud computer servers को control और manage करने के लिए आप को बहुत सारे workers की भी जरूरत पड़ेगी जिनको cloud computer और server के बारे में जानकारी हो. तभी आप अपने web application के लिए cloud computer बना सकते है. चूंकि इसमें बहुत अधिक पैसे की जरूरत पड़ती है. इसलिए यह सभी के लिए peraonaly बना पाना संभव नहीं है.

CLOUD COMPUTING क्या होता है

तो इसी problem को solve करने के लिए हम cloud companies से उनका cloud computer अपनी जरूरत के हिसाब से ख़रीद लेते हैं. यह कंपनी हमे अपने कंप्यूटर को use करने देती हैं तथा वह उसके बदले हमें से monthly कुछ पैसे लेती हैं. यह पैसे आप पर depend करता हैं कि आप उनसे कितनी computer power अपनी जरूरत के लिए खरीदते हैं. cloud computer में दो तरह से control किया जाता है एक होता है backend और दूसरा होता है front-end. जो hume infrastructure cloud computer को खरीदने के बाद दिखाई देता है और जिसके साथ हम intrect करते है. वह उसका front end होता है और जो हिस्सा हम नही देख सकते है और जो providers के द्वारा control किया जाता है. वह backend हिस्सा होता है. इसको आप एक example से समझ सकते है. जब आप facebook या gmail को खोलते है तो आप जो देखते है वह front-end layer का हिस्सा होता है और इसको आप ज्यादा control नही कर सकते है. और जो इसकी coding होती है वह इसके backend का हिस्सा होता है. जिसका control इसके owner के पास होता है और वो ही इसमे कोई changes कर सकते है.

Cloud computing का इतिहास क्या है.

क्लाउड कंप्यूटर की शुरुआत लगभग 1960 में हुआ था. जो computer industry में computing power को उसके prtential benefit के लिए एक service के हिसाब से ग्रहण किया था. लेकिन पहले के computers इतने strong नहीं थे. तथा उनकी connectivity में बहुत problem आती थी. जिससे कि उनका server down हो जाता था. तथा उनके server में bandwith की बहुत problem होती थी. जिसके कारण computer को एक utility के हिसाब से use कर पाना संभव नहीं था. यह टैब तक संभव होना मुमकिन नही था जब तक कि बड़े पैमाने पर internet की availabity न हो. जब 1990 में salesforce ने पहली commercially enterprise saas ने इसका सफलता पूर्ण implementation किया. और इसके बाद ही सन 2002 ने aws ने किया जो कि Amazon की एक cloud computing service है. जिसका उपयोग आप online storage, machine learning, online web applications, website storage के तौर पर अपने जरूरत के हिसाब से कर सकते है. आज internet market में बहुत ही ऐसी companies आ गयी है जो हमे cloud based computer को rent पर अपने users को देती है. जैसे कि google cloud, microsoft, Azour providers मौजूद है.

VPN क्या है -केसे काम कर ता हे

Cloud computing के प्रकार

Cloud computer के मुख्य तौर पर तीन प्रकार होते है तो चलिए जानते है उनके बारे में.

१.Infrastructure as a service (Iaas)

यह service on demand infrastructure का access देती है. इसमे मुख्य तौर पर storage computer और network available होता है. जो कि आपके work को run करते है. आप इस service का उपयोग अपने personal इस्तेमाल के लिए कर सकते है. और आप यहाँ पर उन्ही चीज़ों के पैसे देते है जो आप use करते है.

२.Platform as a service (paas)

यह एक cloud based infrastructure है जिनका उपयोग आप web application develop करने के लिए,  application test करने के लिए, program को run करने के लिए किया जाता है. इस service में आप को server, computer और database शामिल होता है. आप यहाँ पर अपने application को fast तरीके से build और run कर सकते है.

Example के लिए आप यह पर खुद की कोई e-commerce website या email service को बना कर जल्दी से रन कर सकते है.

३.Software as a service (saas)

Saas का इस्तेमाल छोटे websites या business के द्वारा उपयोग किया जाता है. यह third party के द्वारा mange किया जाता है. इसमे host server का इस्तेमाल किया जाता है. जो कि केवल user के द्वारा ही access किया जाता है.

Example – office software, online games etc.

Cloud computer के फायदे व नुसकसान.

तो चलिए अब जानते है कि cloud computer को use करने के क्या फायदे या नुकसान होते है.

फायदे
  • World wide – cloud computer को आप कहि से भी access कर सकते है. बस इसको access करने के लिए आप के computer म internet connection होना चाहिए. इसको आप एक example से समझ सकता है जब हम google docs पर कोई file को stroge करते है. तो उसे हम कह़ी से भी access कर सकते है. बस हमारे पास internet की शुभिधा होनी चाहिए. वही अगर file हमे personal computer म store है तो उसको access करने के लिए हमे computer के पास जाना होगा तभी access कर सकते है.

यह technology बड़ी companies या बड़े business orgnization के लिए फ़ायदेमंद है. हम अपनी files को कह़ी से भी मिनटों में access कर सकते है और देख सकते है.

  • Unlimited storage space – आपको क्लाउड कंप्यूटर में unlimited storage space की सुविधा मिलती है. तथा आप यहां पर अपनी जरूरत के हिसाब से space को increase और decrease कर सकते हैं. अगर आप अपने storage space को बढ़ाना चाहते हैं तो आप को उसके लिए पैसे देने होंगे. और फिर आप अपने आप के हिसाब से जितनी जरूरत होगी उतना stroage space को खरीद सकते हैं.
  • Easy setup – आप cloud computing को बड़ी आसानी से तथा जल्दी set कर सकते हैं. बस यहां पर आपको अपना account और password को select और set करना है और आप अपने network पर कौन सा device connect करना है इसको setup करना है और आप का cloud computer ready है.
  • Affordable price – आप यहां पर सिर्फ उसी के पैसे देते हैं जितने resources का प्रयोग करते हैं या platform बहुत ही उपयोगी तथा affordable है. अगर आप aws की service खरीदते है तो आप को यहाँ पर पहला साल free में use करने को मिलता है. पर इनकी कुछ limitations है.
नुकसान
  • Security – जब आप cloud computing का उपयोग करते हैं तथा अपने सभी data को वहां पर store करते हैं तो उसमें security का खतरा तो बना ही रहता है. क्योंकि एक ही server में बहुत सारे computers devices काम कर रहे होते है. जिससे कि एक ही टाइम पर बहुत सारे users से access कर रहे होते हैं. तो हो सकता है कि कोई इन servers पर attack करके इन्हें hack करने की कोशिश करें. ऐसे में आपका data भी उनके हाथ में लग सकता है. पर cloud companies से अपने server को safe करने के लिए different types encryption का उपयोग करते हैं. ताकि वह अपने servser safe कर सके और उसमे किसी भी प्रकार की security का issue ना हो.
  • Privacy – यहां पर एक ही server में बहुत सारे users होते हैं. तो इस कारण आपको यहां पर थोड़ी privacy की भी problem हो सकती है.
Conclusion

तो दोस्तों आप ने इस post में जाना कि cloud computing क्या होती है. cloud computing का उपयोग क्यों और किस लिए use किया जाता है. cloud computing की शुरुआत कब हुआ था और इसका इतिहास क्या था. cloud computing के कितने प्रकार होते है. और cloud computing को use करने  के क्या फायदे और नुकसान हो सकते है.

दोस्तों अगर आप cloud computing का उपयोग करते है तो आप की web application को run करने के लिए बहुत ही ज्यादा high speed processiong power मिलती है. जिससे की visitors को आप की service को use करने में problem नही आती है और आप की service को पसंद करते है.

दोस्तों आपको हमारी यह जानकारी कैसी लगी अपनी राय ज़रूर दें. तथा इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें, ताकि उनको भी पता चले कि cloud computing क्या होती है. अगर इस post से संबंधित आपके मन में कोई प्रश्न हो तो आप हमें comment करके पूछ सकते हैं. हम आपके सवालों का जवाब देने की कोशिश करेंगे.

नमस्कार दोस्तो मेरा नाम vivek dobriyal है. और में एक blogger हु। मैने engineering की है। और अब अपने blogs के ज़रिए infromation को सभी के साथ शेयर करता हु। मेरे blogs हमेशा research based होते है और मै अपने visitors को हमेशा सही जानकारी ही देने की कोसिस करता हूं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here